सीएम एप ने दिलाया UPCL के रिटायर्ड इंजीनयर के रुपये 17 लाख पेंशन एरियर का बकाया भुगतान

234
CM APP UTTARAKHAND सीएम एप उत्तराखण्ड
CM APP UTTARAKHAND सीएम एप उत्तराखण्ड
मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत की अनूठी पहल सीएम एप फिर साबित हुई वरदान 
सीएम एप ने दिलाया  UPCL के रिटायर्ड इंजीनयर के रुपये 17 लाख पेंशन एरियर का बकाया भुगतान।
इंजीनियर देवेन्द्र सिंह पंवार अप्रैल 2016 को  UPCL  (ऊर्जा विभाग) से सहायक अभियंता के पद से रिटायर हुए थे। सिस्टम की पेचिदगियों के कारण लगभग दो वर्ष बीत जाने पर भी रिटायर्ड इंजीनियर देवेंद्र सिंह पंवार  का पेंशन एरियर का लगभग रुपये 17 लाख 78 हजार का भुगतान नही हुआ।
इसके लिए ई० पंवार ने ऊर्जा निगम और ट्रेजरी सभी जगह अर्जियां लगाई और पेंशन एरियर दिलाने की गुजारिश की। परंतु दो साल के लम्बे वक्त में उन्हें निराशा ही हाथ लगी। तभी उन्हें किसी ने सीएम एप के बारे में बताया और सुझाव दिया कि अपनी समस्या वहां आॅनलाईन दर्ज कराएं।
सिस्टम से विश्वास खो चुके ई० देवेंद्र सिंह पंवार के सीएम एप पर शिकायत दर्ज कराने पर उनसे मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा सम्पर्क साधा गया और मामले की पूरी जानकारी ली गई। इससे ई० पंवार के मन में बुझी हुई उम्मीद फिर से जाग गई।
मुख्यमंत्री कार्यालय के निर्देश पर  UPCL  ( ऊर्जा विभाग) और ट्रेजरी द्वारा उनकी शिकायत पर कार्यवाही भी शुरू हो गई और पत्रावली चलने लगी। कुछ ही दिनों में  ई० पंवार की  पेंशन एरियर की रूकी हुई धनराशि लगभग रुपये 17 लाख 78 हजार का भुगतान कोषागार देहरादून  द्वारा कर दिया गया।
मुख्य कोषाधिकारी देहरादून द्वारा मा० मुख्यमंत्री कार्यलय को बताया गया कि पेंशनर ई० देवेंद्र सिंह पंवार का बकाया सम्पूर्ण भुगतान हो चुका है और अब कोई बकाया राशि शेष नही है।
पेंशनर ई० पंवार ने मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत का धन्यवाद देते हुए कहा कि सीएम एप उनके जैसे लोगों के लिए वरदान की तरह है। सीएम एप पर जनशिकायतों के निस्तारण में जिस तरह की तेजी दिखाई जाती है वह सराहनीय है। उन्होंने कहा कि इतने अच्छे एप का लाभ सभी को उठाना चाहिए।
मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड श्री त्रिवेंन्द्र सिंह रावत की अनूठी पहल सीएम एप पर प्राप्त होने वाली जनशिकायतें निस्तारण हेतु उत्तराखण्ड राज्य के सभी  विभागों के उच्च अधिकारियों को प्रतिदिन भेजी जाती हैं और उनके त्वरित निस्तारण के लिए अधिकारियों से फॉलोअप भी किया जाता है।
पूर्व में भी कई शिकायतकर्ता सीएम एप से लाभ उठा चुके हैं।