कवयित्री अरुणा वशिष्ठ की प्रथम काव्यकृति रुद्रवंती का विमोचन किया

12

01 Nov रायवाला स्थित एक रिसोर्ट में आज उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने कवयित्री श्रीमती अरुणा वशिष्ठ की प्रथम काव्यकृति रुद्रवंती का विमोचन किया।

इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि रुद्रवंती काव्यकृति के माध्यम से लेखक ने सरल शब्दों में मन की बात को उजागर करते हुए सामाजिक सरोकार के विषयों को छूआ है। उन्होंने कहा कि इस काव्य संग्रह में जीवन के स्नेहिल पक्ष के हर पहलू का आंतरिक दिग्दर्शन समाहित है।

श्री अग्रवाल ने विमोचन के अवसर पर कहा कि कविता मनुष्य को उत्तरोतर संवेदनशील बनाती है। जिसका प्रभाव मनुष्य के प्रत्येक कार्यकलाप पर पड़ता है। विधानसभा अध्यक्ष ने इस काव्य संग्रह की सराहना करते हुए भविष्य में समाज में रहने वाले लोगों को प्रेरित करने के लिए इस तरह के लेखन को जारी रखने की बात कही।

कवियत्री अरुणा वशिष्ठ ने अपने काव्य कृति के बारे में बताया कि इस किताब में हास्य, व्यंग, प्रकृति, श्रंगार, वीर रस एवं सभी प्रकार का काव्य समाहित है। उन्होंने कहा कि इस काव्य मैं कोमल भावों की असाधारण मर्मस्पर्शी प्रस्तुति है।

इस अवसर पर रतन सिंह पंवार, साहित्यकार अखिलेश प्रभाकर, हर्ष प्रभाकर, अविनाश वशिष्ठ, कुसुम जोशी, पुष्पा ध्यानी, शांति गौड, विक्रम सिंह, आदित्या वशिष्ठ, प्रमोद उनियाल, नरेंद्र रयाल, मधुसूदन सहित अन्य लोग उपस्थित थे। मंच का संचालन सुनिल थपलियाल ने किया।