चेक गणराज्य उत्तराखण्ड में लघु व मध्यम उद्योगों को सहयोग करने के है इच्छुक

26

05 Oct  चेक गणराज्य द्वारा उत्तराखण्ड में लघु व मध्यम उद्योगों को तकनीकी व अन्य विषेषज्ञ सहयोग देने मे विशेष रूचि दिखाई जा रही है। इसके साथ ही चेक गणराज्य राज्य में फूड प्रोसेसिंग, चिकित्सा उपकरण, फिल्म निर्माण को प्रोत्साहित, ऑटो इलैक्ट्रिक व ऑटो कॉम्पोनेन्ट, स्मार्ट पब्लिक सिस्टम, बायोफ्यूलस, बायोमास, आईटी, पर्यटन, साहसिक पर्यटन सहित 6 कोर सैक्टर में तकनीकी व विशेषज्ञ सहयोग करने में इच्छुक है।

शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से चेक गणराज्य के राजदूत श्री मिलान होवार्का ने भेंट के दौरान चेक रिपब्लिक को राज्य में आयोजित आगामी इन्वेस्टर समिट में उत्तराखण्ड का साझीदार देश बनाने के लिए आभार व्यक्त किया। उन्होने उत्तराखण्ड व चेक गणराज्य के मध्य पीपल टू पीपल कॉन्टेक्ट के साथ ही दोनों पक्षों के विश्वविद्यालयों, विद्यार्थियों, शिक्षा, फिल्म निर्माण सहित सांस्कृतिक संवाद व सूचनाओं के आदान प्रदान व बौद्धिक संवाद पर बल दिया। चेक गणराज्य के राजदूत श्री मिलान होवार्का ने मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र को चेक गणराज्य आने का निमंत्रण दिया। निमंत्रण स्वीकार करते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि चेक गणराज्य में विभिन्न क्षेत्रों में हो रही बेस्ट प्रैक्टिसेज के अनुभव साझा करने के दृष्टिगत यह उत्तराखण्ड व चेक गणराज्य के लिए लाभकारी होगा। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा पर्यटन विशेषकर साहसिक पर्यटन, अध्यात्मिक पर्यटन, परम्परागत जड़ी-बूटी उत्पादन,  बायोफ्यूलस, हैल्थ एण्ड वेलनेस, योगा, ऑगेनिक खेती, राज्य में फिल्म निर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए विशेष प्रयास किए जा रहे हैं।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्री ओम प्रकाश, प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार, सचिव डा0 भूपिन्दर कौर औलख उपस्थित थे।