सहकारिता क्षेत्र के लिए 3500 करोड़ रूपये का डी0पी0आर किया प्रस्तुत

68

14 June प्रदेश के सहकारिता, उच्च शिक्षा, दुग्ध विकास एवं प्रोटोकाॅल राज्यमंत्री(स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 धन सिंह रावत ने पशुपालन निदेशालय, मोथरोवाला में राज्य समेकित सहकारी विकास परियोजना के सम्बन्ध में बैठक ली। बैठक में सहकारिता सचिव आर0 मीनाक्षी सुन्दरम ने सहकारिता क्षेत्र के लिए 3500 करोड़ रूपये का डी0पी0आर प्रस्तुत किया। इस कार्य योजना का प्रस्तुतिकरण पावर प्वाइन्ट के माध्यम से किया गया। इसका उद्देश्य एकीकृत सहकारी विकास परियोजना के माध्यम से सहकारिता क्षेत्र के संस्थाओं को सुदृढ़ करना है।

उक्त योजना का उद्देश्य पर्वतीय क्षेत्रों से पलायन को रोकना, रोजगार एवं व्यवसाय के अवसर में वृद्धि करना, जीवन स्तर में सुधार लाना एवं मृतप्राय सहकारी समितियों का पुनरूद्धार करना है। बहुउद्देशीय साधन सहकारी समिति, ग्रामों के लिए समाजिक एवं आर्थिक गतिविधियों का केन्द्र बनेगी। इस कार्य योजना का उद्देश्य बैंकिंग को प्रतिस्पर्धी बनना, आसान बंैकिंग की  सुविधा देना एवं जनता को लाभदायक सुविधा देना है।

उक्त योजना का उद्देश्य पर्वतीय उत्पादों की मार्केटिंग, ब्राडिंग सहकारी विपणन समितियों के माध्यम से करना है। इसके अतिरिक्त एलाइड कृषि सेक्टर, भेड़, बकरी, मत्स्य पालन, रेशम एवं डेरी तथा पर्यटन इत्यादि क्षेत्रों को फण्डिग करना है।

इस अवसर पर विधायकगण दिवान सिंह बिष्ट, गोपाल सिंह रावत, संजीव आर्य, नवीन चन्द्र दुम्का, बलवन्त सिंह भौर्याल और अध्यक्ष सहकारी समिति दान सिंह रावत, अध्यक्ष यू0सी0एफ0 घनश्याम नौटियाल, निबन्धक बी0एम0मिश्रा एवं समस्त शीर्ष संस्थाओं के अध्यक्ष, अपर निबंधक, उप निबंधक, सहायक निबंधक, समस्त शीर्ष संस्थाओं के प्रबंन्धक निदेशक, इत्यादि उपस्थित थे।