जान-माल के खतरे की आशंका वाले स्थल को चिन्हित कर लिया जाय- महाराज

50

29 May  प्रदेश के सिंचाई, बाढ़ नियंत्रण मंत्री सतपाल महाराज ने विधान सभा स्थित कार्यालय कक्ष में सिंचाई विभाग के अन्तर्गत बाढ़ सुरक्षा के कार्यों एवं तैयारियों के सम्बन्ध में समीक्षा बैठक की।

उन्होंने 15 जून से 15 अक्टूबर, 2018 तक मानसून अवधि होने के कारण राज्य के सभी जिलों में बाढ़ नियंत्रण से सम्बन्धित सभी आवश्यक व्यवस्थाओं पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जान-माल के खतरे की आशंका वाले स्थल को चिन्हित कर लिया जाय एवं इसका उपाय कर लिया जाय। समस्त जिलों में बाढ़ नियंत्रण कक्ष स्थापित किया जाय एवं कक्ष में दूरभाष एवं फैक्स की व्यवस्था की जाय। बाढ़ नियंत्रण कक्ष 24 घण्टे संचालित रखा जाय।

बैठक में कहा गया बाढ़ सुरक्षा कार्य बांधों एवं बैराजों पर निगरानी हेतु खण्डीय स्तर पर टीमों का गठन कर लिया जाय ताकि मानसून से पूर्व एवं मानसून के समय इस संरचना का उचित संचालन हो सके। बाढ़ सुरक्षा उपायों में अभिनव प्रयोग पर बल दिया गया। 40 मेगावाट सोलर पावर प्रोजेक्ट की स्वीकृत शीघ्र प्राप्त कर कार्य प्रारम्भ करने का निर्देश दिया गया। इसके अतिरिक्त सौंग बांध पेयजल परियोजना का कार्य शीघ्र आरम्भ करने का निर्देश दिया गया। जमरानी बांध एवं त्यूनी प्लासू जल विद्युत परियोजना से सम्बन्धित व्यय के लिए धन का प्रबन्धन कर लिया जाय।

बैठक में प्रमुख सचिव सिंचाई आनन्द बर्द्धन, अपर सचिव सिंचाई देवन्द्र पालीवाल, मुख्य अभियन्ता सिंचाई विभाग मुकेश मोहन सहित अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।